Pages

Saturday, March 30, 2019

सत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा

मोहनदास करमचंद गाँधी की आत्मकथा


सत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा महात्मा गाँधी की जन्म से लेकर 1921 की आत्मकथा है। इसका 1925 से 1927 के बीच नवजीवन में साप्ताहिक किस्तों में हुआ। मूल रूप में गुजराती में लिखी आत्मकथा का हिन्दी अनुवाद गाँधी के सहयोगी काशिनाथ त्रिवेदी ने किया है। विश्व के धार्मिक और आध्यात्मिक गुरुओं की एक समिति ने इस पुस्तक को 20वी शताब्दी की सर्वोत्तम 100 आध्यात्मिक पुस्तकों में शामिल है।

यह पुस्तक हिन्दीकोश पर मुफ्त उपलब्ध है । इस डाउनलोड़ करने के लिए नीचे दिए लिंक पर जाएँ।



Download Link: Satya ke Prayog athava Atamkatha

No comments:

Post a Comment

सत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा

मोहनदास करमचंद गाँधी की आत्मकथा सत्य के प्रयोग अथवा आत्मकथा महात्मा गाँधी की जन्म से लेकर 1921 की आत्मकथा है। इसका 1925 से 1927 के बीच न...